Home ताज़ातरीन विधायक खरीद मामला : बीजेपी महासचिव बीएल संतोष को तेलंगाना पुलिस का समन

विधायक खरीद मामला : बीजेपी महासचिव बीएल संतोष को तेलंगाना पुलिस का समन

0
विधायक खरीद मामला : बीजेपी महासचिव बीएल संतोष को तेलंगाना पुलिस का समन

बीजेपी की परेशानी इस चुनावी मौसम में बढ़ती जा रही है. तेलंगाना में टीआरएस विधायकों की खरीद – फरोख्त का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. तेलंगाना पुलिस ने बीजेपी के राष्ट्रिय महासचिव बीएल संतोष को समन भेजकर इसी 21 तारीख हाजिर होने को कहा है, ताकि इस मामले में उन से पूछताछ की जा सके. तेलंगाना एसआईटी इस मामले की जांच कर रही है. समन में कहा गया है कि अगर वो ऐसा नहीं करते हैं तो एसआईटी उनकी गिरफ्तारी भी कर सकती है. उधर, समन जारी होने के बाद बीजेपी नेता बीएल संतोष भी अंतरिम जमानत के लिए हाईकोर्ट में याचिका दायर करने की तैयारी में हैं. बता दें, इस मामले में तेलंगाना पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है. अब तक चार राज्यों की सात लोकेशन पर पुलिस पहुंच चुकी है. इस मामले में अब तक तीन लोगों को गिरफ्तार भी किया जा चुका है.

बता दें कि टीआरएस के विधायकों में से एक पी रोहित रेड्डी की शिकायत के आधार पर 26 अक्टूबर की रात में रामचंद्र भारती उर्फ सतीश शर्मा, नंद कुमार और सिम्हाजी स्वामी के खिलाफ संबंधित धाराओं-आपराधिक साजिश, रिश्वत की पेशकश और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, 1988 के प्रावधानों के तहत मामले दर्ज किए गए थे. प्रथमिकी के मुताबिक, रोहित रेड्डी ने आरोप लगाया कि आरोपी ने उन्हें 100 करोड़ रुपये की पेशकश की. इसके बदले में उसने शर्त रखी थी कि उन्हें टीआरएस छोड़कर बीजेपी में शामिल होना पड़ेगा.

गौरतलब है कि टीआरएस के चार विधायक पायलट रोहित रेड्डी, बी हर्षवर्धन रेड्डी, रेगा कांथा राव और गुव्वाला बलराजू ने अज्ञात लोगों से धमकी भरे फोन आने की शिकायत की है. फोन पर उन्हें टीआरएस छोड़ने और बीजेपी में शामिल होने के लिए कहा गया है. कथित तौर पर धन का प्रलोभन भी दिया गया था. विधायकों की शिकायत के बाद रायदुर्गम, बंजारा हिल्स, घाटकेसर और गचीबावली पुलिस थानों में भारतीय दंड संहिता की संबंधित धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गए हैं.

Previous article वीर सावरकर पर छिड़ी जंग, राहुल के साथ खड़े हुए तुषार गांधी तो उद्धव के साथ फडणवीस 
Next article अग्निपथ योजना : दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा अग्निपथ स्कीम गंभीर मामला, हम पहले इसे देखेंगे !
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here