Saturday, April 13, 2024
होमताज़ातरीनराहुल गांधी ने कुकी बाहुल्य इलाकों से यात्रा निकाल कर दूरियां मिटाने...

राहुल गांधी ने कुकी बाहुल्य इलाकों से यात्रा निकाल कर दूरियां मिटाने की कोशिश की

दिन राहुल गांधी ने कुकी बाहुल्य इलाकों से यात्रा निकाल कर दूरियां मिटाने की कोशिश की। राहुल गांधी दोनों समुदाय के लोगों से अलग-अलग मिले। सुबह की खबर में जिस जगह से राहुल गांधी ने अपनी यात्रा की शुरुआत की है 2 जनवरी को यहां हिंसा में चार लोग मारे गए थे। उसके बाद भी कई जगह से हिंसा की खबरें आई हैं। राहुल गांधी ने दोनों समुदायों से के बीच संवाद स्थापित करने की कोशिश की है। इससे ये संदेश गया है कि देश के प्रधानमंत्री को मणिपुर के लोगों की चिंता नहीं है लेकिन राहुल गांधी को चिंता है।

महिलाओं के सम्मान पर खास जोर

राहुल गांधी ने महिलाओं के सम्मान पर खास जोर दिया है। यही वजह है कि राहुल गांधी के यात्रा और को देखने करने महिलाएं बड़ी संख्या में आ रही है।

सोमवार को राहुल गांधी आदिवासी महिलाओं के निर्वस्त्र घुमाने वाले कांगपोकपी जिले से गुजरे। उसे जगह पहुंचकर महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए न्याय योद्धा बनने की अपील की जहां महिलाओं को निर्वस्त्र करके घूमने की शर्मनाक घटना हुई थी। यहां राहुल से मिलने बड़ी संख्या में महिलाएं पहुंची। राहुल गांधी महिलाओं को न्याय दिलाने की बात कर रहे थे तो कोई महिलाओं को भावुक होते हुए देखा गया। इस दौरान महिलाओं ने उन्हें न्याय दिलाने के साथ बेरोजगारी, पिछड़ेपन और महंगाई की समस्या से भी रुबरु कराया। राहुल ने कहा कि वह मणिपुर के लोगों के दर्द को महसूस कर सकते हैं। मणिपुर की जनता ने एक त्रासदी का सामना किया है। कांग्रेस फिर से शांतिपूर्ण और सौहार्दपूर्ण बनाना चाहती है।

निशाने पर पीएम मोदी

अपनी यात्रा के दौरान राहुल गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी को निशाने पर रखा है। लगभग हर जगह उन्होंने यह सवाल उठाया कि नरेंद्र मोदी मणिपुर क्यों नहीं आ रहे। सोमवार को कांग्रेस के संचार विभाग के प्रभारी महासचिव जयराम रमेश और एनएसयूआई के प्रभारी कन्हैया कुमार ने भी मणिपुर मैं पिछले 8 महीने से चल रही हिंसा पर नरेंद्र मोदी की चुप्पी और उनके मणिपुर नहीं आने को लेकर जमकर हमला बोला। सामने बाकायदा प्रेस कांफ्रेंस करके पीएम नरेंद्र मोदी को निशाने पर लिया। कन्हैया कुमार पीएम मोदी पर ज्यादा आक्रामक दिखे उन्होंने दो टूक कहा कि वोटो के समीकरण के चलते नरेंद्र मोदी मणिपुर आने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे। उन्होंने सवाल उठाया कि नरेंद्र मोदी के पास एसपीजी सुरक्षा है, हजारों करोड़ों का विमान है। बावजूद अगर वह मणिपुर नहीं आ रहे तो इसीलिए के वह यहां के लोगों की नाराजगी का सामना मत नहीं जुटा पा रहे।नं यही वजह है कि हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान वह मिजोरम भी नहीं जा पाए थे।

राहुल गांधी के नेतृत्व में भारत जोड़ो न्याय यात्रा की शुरुआत सोमवार को मणिपुर के सेकमाई से हुई। यहां से यात्रा इंफाल वेस्ट होते हुए कांगपोकपी पहुंची। इस दौरान सडक़ के दोनों किनारों पर हाथों में राष्ट्रीय ध्वज लिए महिलाएं, युवतियों और स्टूडेंट्स का हुजूम जमा था। कई के हाथ में बैनर और ज्ञापन भी थे। इस दौरान राहुल ने महिलाओं और अन्य लोगों से उनकी समस्याएं जानी। इससे पहले न्याय यात्रा की शुरुआत पारंपरिक रूप से किए गए झंडारोहण से हुई। शाम को यह यात्रा पांच जिलों से होती हुई 257 किलोमीटर का सफर तय करती हुई मणिपुर-नागालेंड सीमा पर स्थित मऊ गेट पर समाप्त हुई। मणिपुर से यात्रा के गुजरने के बाद अब कयास लगाए जा रहे हैं कि मणिपुर में जातीय विभाजन की खाई को पाटने में यह यात्रा कितनी मददगार साबित होगी?

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments