Home ताज़ातरीन भारत राष्ट्र समिति के जरिये देश की राजनीति में केसीआर की धमक 

भारत राष्ट्र समिति के जरिये देश की राजनीति में केसीआर की धमक 

0
भारत राष्ट्र समिति के जरिये देश की राजनीति में केसीआर की धमक 

 

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव अब देश की राजनीति करने को तैयार हैं. इसके लिए उन्होंने अपनी पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति का नाम बदलकर भारत राष्ट्र समिति कर लिया है. इस नयी राजनीतिक पार्टी के जरिये केसीआर अब अगले लोकसभा चुनाव के साथ ही हर राज्यों में अपना उम्मीदवार खड़ा करेंगे. केसीआर का यह कदम आगे क्या गुल खिलाता है, इस पर सबकी निगाहें टिक गई है.

तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) का नाम बदलने का फैसला पार्टी की आम सभा की बैठक में लिया गया. सूत्रों के अनुसार, पार्टी मुख्यालय में आयोजित बैठक के दौरान इस बाबत एक प्रस्ताव पारित किया गया. पार्टी अध्यक्ष और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने प्रस्ताव पढ़ा और घोषणा की कि पार्टी की आम सभा की बैठक में सर्वसम्मति से टीआरएस का नाम बदलकर बीआरएस करने का संकल्प लिया गया. इस घोषणा के बाद पार्टी मुख्यालय के बाहर जुटे कार्यकर्ताओं ने जश्न मनाया.

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव अभी से मिशन 2024 की तैयारी में हैं. हाल के दिनों में उन्होंने कई राज्यों का दौरा किया था, जिसमें कई विपक्षी नेताओं से उन्होंने मुलाकात भी की थी. अपने बिहार दौरे में उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद सुप्रीमो लालू यादव से मुलाकात की थी. उस दौरान उन्होंने दिग्गज नेताओं के साथ मिशन 2024 को लेकर विशेष चर्चा की.

 

केसीआर 2018 से ही राष्ट्रीय राजनीति में उतरने की तैयारी कर रहे हैं. उन्होंने कई मौकों पर यह कहा भी है कि कांग्रेस और बीजेपी ने देश को बर्बाद कर दिया है. उन्होंने अपनी पार्टी को राष्ट्रीय पार्टी बनाने की बात कई मौकों पर बोल भी चुके हैं.

मिशन 2024 को लेकर अभी से विपक्षी पार्टियां एकजुट होने की कवायद में जुट गई हैं. हाल के दिनों में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी दिल्ली का दौरा किया था. जिसमें उन्होंने कई दिग्गज नेताओं के साथ मुलाकात की और नरेंद्र मोदी के खिलाफ एकजुट होने की अपील की थी.

Previous article लोकतंत्र का नर्तन : उद्धव की तकरीर और भारत यात्रा में सोनिया -प्रियंका के स्टेप पर टिकी निगाहें 
Next article यूक्रेन के चार इलाके रूस में शामिल, अंतरराष्ट्रीय समुदाय में तीखी प्रतिक्रियाएँ
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here