Sunday, February 25, 2024
होमताज़ातरीनआज ईडी के सामने हेमंत सोरेन को पेश होना है, लेकिन वो...

आज ईडी के सामने हेमंत सोरेन को पेश होना है, लेकिन वो आदिवासी महोत्सव में हिस्सा लेने जायेंगे रायपुर

खनन मामले में ईडी ने झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन को समन भेजा है. समन के मुताबिक हेमंत को आज दो पहर में ईडी के सामने पेश होना है लेकिन ख़बरों के मुताबिक अपने शेड्युएल के मुताबिक आदिवासी महोत्सव में हिस्सा लेने रायपुर जा रहे हैं. हालांकि सोरेन ने ईडी के समन पर एक ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा कि विपक्ष के अनुरोध पर उन्हें भी बुलाया गया है. अपने ट्वीट में उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि वह जाएंगे या नहीं.

हेमंत सोरेन ने ट्वीट करते हुए कहा, “हमारे विपक्ष के अनुरोध पर हमें भी बुलावा आया है. यह दर्शाने का प्रयास किया गया है कि देखो ईडी कितना ताकतवर है. विपक्ष इस गलतफहमी में हैं कि जब वह राजनैतिक रूप से हमारा सामना नहीं कर सके तो संस्थाओं का दुरुपयोग करेंगे. इनके हर षड्यंत्र का जवाब यहां की जनता इन्हें देगी.

उन्होंने कहा, “इतिहास गवाह है विपक्ष जैसे सामंतवादी लोग वंचित और शोषित का भला कभी नहीं सोच सकते. एकलव्य जैसे तीरंदाज से उनके गुरु ने अंगूठा मांग लिया था कि अब चलाओ तीर. लेकिन यह वीर सिदो-कान्हू की धरती है.”

हेमंत सोरेन ने कहा, “हमारे पूर्वजों ने हमें कभी हारना नहीं सिखाया. हमें लड़ना और लड़कर जीतना सिखाया है. संवैधानिक संस्थाओं का दुरुपयोग कर राज्य के आदिवासी सीएम को कैसे परेशान किया जाये यही विपक्ष की सोच है. मुझे परेशान करने की कोशिश के पीछे एक ही उद्देश्य है कि दलित, आदिवासी, पिछड़ा और अल्पसंख्यक को हक न मिले. जब राज्य के करोड़ो जन मानस का साथ हो तो इनकी कोई साजिश काम नहीं आयेगी.”

उन्होंने कहा कि आज विपक्ष का कोई साथी बताये कि अगर वह सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के अंतर्गत लोगों को मदद पहुंचाने का काम कर रहे हैं ? जहां लोगों को योजनाओं का लाभ मिल रहा है. वहां जाना तो दूर यह दिन भर षड्यंत्र रचने में लगे रहते हैं. यह नहीं चाहते गरीब और जरूरतमंद लोगों को योजनाओं का लाभ मिले.

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments