Saturday, September 30, 2023
होमताज़ातरीनजानिए राहुल गाँधी के सवाल पर रघुराम राजन ने क्या जवाब दिया

जानिए राहुल गाँधी के सवाल पर रघुराम राजन ने क्या जवाब दिया

भारत जोड़ो यात्रा में बुधवार को आरबीआई के पूर्व गवर्नर और जाने – माने अर्थशास्त्री डॉ. रघुराम राजन ने भी हिस्सा लिया. उन्होंने इस यात्रा के दौरान कांग्रेस नेता राहुल गांधी से कई मुद्दों पर चर्चा भी की. बातचीत के दौरान रघुराम राजन ने कहा कि अगला साल तो पूरी दुनिया के लिए आर्थिक तौर पर बहुत मुश्किल भरा हो सकता है. उन्होंने कहा कि भारत में महंगाई एक बड़ी समस्या है, और सिर्फ ब्याज दरें बढ़ाकर इसे काबू करना मुश्किल है.

आर्थिक मुद्दों पर चर्चा के दौरान राहुल गांधी ने रघुराम राजन से पूछा कि आखिर वो ऐसा क्यों कह रहे हैं, तो रघुराम राजन का जवाब था कि पिछली तिमाही यानी तीसरी तिमाही काफी खराब रही है. उन्होंने कहा कि हालांकि देश की आर्थिक स्थिति तो कई साल से खराब है. और महामारी ने इसे और प्रभावित किया है. उन्होंने कहा कि महामारी से पहले से विकास की रफ्तार धीमी हो गई थी. उन्होंने बताया कि महामारी से पहले ही जीडीपी 9 से गिरकर 5 पर पहुंच चुकी थी.

राहुल गांधी ने सवाल किया कि आखिर कुछ गिने-चुने पूंजीपति ही तरक्की कर रहे हैं. बाकी सारा हिंदुस्तान परेशान है. इस पर रघुराम राजन का कहना था कि असमानता एक बड़ी समस्या है, और इससे निपटने के लिए सही नीतियों की जरूरत है. उन्होंने कहा कि महामारी के दौरान बड़े लोगों को समस्या नहीं हुई, बल्कि उनकी तो आय बढ़ गई. उन्होंने कहा कि उच्च मध्यवर्ग भी आराम से रहा, क्योंकि उनके पास घर से काम करने की आजादी थी. सात ही उन्होंने कहा कि निम्न वर्ग को भी सरकारी राशन आदि का लाभ मिला, लेकिन असली मार निम्न मध्य वर्ग पर पड़ी, जिसकी नौकरी चली गई, रोजगार खत्म हो गया. अब महंगाई बढ़ गई है, ब्याज दरें बढ़ गई हैं. इसके लिए सरकार को नीतियां बनानी होंगी.

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments