Sunday, February 25, 2024
होमबिजनेस/ एजुकेशनहमारी सदा ट्रस्ट' की ओर से ‘शिक्षा’ प्रोजेक्ट के तहत सात दिवसीय...

हमारी सदा ट्रस्ट’ की ओर से ‘शिक्षा’ प्रोजेक्ट के तहत सात दिवसीय समर कैंप का आयोजन

 

बनारस: ‘हमारी सदा ट्रस्ट’ की जानिब से ‘शिक्षा’ प्रोजेक्ट के तहत उत्तर प्रदेश के फत्तूपुर, कठिराँव में 30 बच्चो की सात दिवसीय समर कैंप का आयोजन किया गया और रचनात्मकता, सृजनशीलता, कला कौशल पर आधारित गतिविधियां कराई गईं.

इस मौके पर बच्चों को इनाम देते हुए हमारी सदा ट्रस्ट के फाउंडर मोहम्मद इरशाद आलम ने बच्चों की हौसला-अफ़ज़ाई की और उन्हें मजीद मेहनत से पढ़ाई करने के लिए प्रेरित किया. बच्चों से वादा किया कि जल्द ही यहां पर कंप्यूटर सेंटर बनाया जाएगा और उन्हें कंप्यूटर सीखने का मौका मिलेगा.

 

वहीं जमाअत इस्लामी हिन्द बनारस यूनिट से मुख्य अतिथि के रूप में उर्फी मिर्ज़ा, मोहम्मद नक़ीब आलम, मोहम्मद आरिफ फलाही और मोहम्मद दानिश शामिल हुए. इन लोगों के हाथों बच्चों को इनाम दिलवाया गया, ताकि बच्चों का मनोबल बढ़े. मुख्य अतिथि ने बच्चों का प्रदर्शन देख बहुत खुश हुए. उन्हें दिल लगाकर पढ़ने को कहा और साथ ही वहां मौजूद गांव के लोगों से भी कहा कि बच्चों की शिक्षा को रुकने नहीं देना चाहिए. इन्हें डॉक्टर, इंजीनियर और जो यह बनना चाहते हैं, वहां तक इनको पढ़ाएं.

इस आयोजन में बच्चों की तैयारी में लगे तमाम लोगों का शुक्रिया अदा किया गया. गांव से शामिल हुए मेहमानो का भी शुक्रिया अदा किया गया और उनसे वादा लिया गया कि बच्चों की पढ़ाई पर ध्यान देंगे. आखिर में सभी को मिठाई वगैरा खिला कर प्रोग्राम को खतम किया गया.

बता दें कि ‘हमारी सदा ट्रस्ट’ वर्ष 2016 से लगातार बच्चों की शिक्षा के साथ-साथ अन्य पाठ्यक्रम गतिविधियों पर भी ध्यान देती आई है. यह सात दिवसीय समर कैंप कई गतिविधि आधार कार्यक्रम पर आधारित था. यह एक हफ्ता बच्चों के लिए बड़ा रोचक भरा था. बच्चों ने रचनात्मक कार्य सीखे और अपने हाथों से कलाकृतियां भी बनाईं.

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments