Home चुनाव राजस्थान में राज्यसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस विधायकों में नाराजगी, पायलट पहुंचे दिल्ली

राजस्थान में राज्यसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस विधायकों में नाराजगी, पायलट पहुंचे दिल्ली

0
राजस्थान में राज्यसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस विधायकों में नाराजगी, पायलट पहुंचे दिल्ली

 

अखिलेश अखिल

 

राजस्थान कांग्रेस में अभी भी सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. कांग्रेस के कई विधायक काफी नाराज हैं ऐसे में माना जा कि अगर विधयकों की नाराजगी शांत नहीं की गई तो राज्य सभा के लिए चौथी सीट पार्टी के हाथ से फिसल सकती है. पार्टी के कई विधायकों को उदयपुर में रखा गया है लेकिन उनमे से अधिकतर विधायक काफी नाराज बताए जा रहे हैं. विधायकों की नाराजगी को देखते हुए और राज्य सभा सीट पर पार्टी के नाराज विधायकों को देखते हुए सचिन पायलट को दिल्ली बुलाया गया है. जानकारी के मुताबिक सचिन पायलट पार्टी के बड़े नेताओं से विधायकों की नाराजगी पर बात करेंगे. अगर नाराज विधयकों की मांगे नहीं मानी गई तो कांग्रेस के हाथ से चौथी सीट निकल सकती है.

राजस्थान में राज्यसभा चुनाव से पहले बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए विधायकों ने सीएम गहलोत की मुश्किलें बढ़ा दी है. मंत्री राजेंद्र गुढ़ा, विधायक वाजिब अली और गिर्राज सिंह मलिंगा के सख्त तेवर बरकरार है. तीनों विधायक बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए थे. विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा का कहना है कि संकट में कांग्रेस को समर्थन दिया गया. बदले में मुझे केस मिले. मंत्री राजेंद्र सिंह गुढ़ा का कहना है कि बसपा विधायकों को उचित सम्मान नहीं मिला. विधायक वाजिब अली का कहना है कि अफसरशाही हावी है. सीएम से कई बार अपने विधानसभा के लंबित काम पूरा करने के लिए अनुरोध किया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई. वाजिब अली ने कहा कि हमारे क्षेत्र में पीडब्ल्यूडी और अवैध खनन की बहुत शिकायतें थीं.

मैंने खुद मुख्यमंत्री को इसे लेकर पत्र लिखा लेकिन पता नहीं वह चीजें कहां चली जाती हैं. खुद को कोई पद नहीं दिए जाने पर वाजिब अली ने व्यंग कसते हुए कहा कि पद देने वालों की भी नजरें बहुत बड़ी होती हैं. उन्हें पार्टी में संतुलन बनाना पड़ता है, जो उन्हें योग्य लगे उनको एडजस्ट कर दिया गया. हम तो जनता के ट्रस्टी हैं. जनता के लिए काम कर रहे हैं. यही हमारा कर्तव्य है.

उल्लेखनीय है कि बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए विधायक वाजिब अली को लेकर कहा जा रहा है कि सरकार को समर्थन देने के बावजूद उन्हें कोई पद नहीं मिला. इसलिए वह नाराज है. अफसरशाही पर वाजिब अली लगातार सवाल खड़े कर रहे हैं. आज एक बार फिर उन्होंने कहा कि अफसरशाही में कमजोरी के चलते सरकार जनता तक जो जन कल्याणकारी योजनाएं पहुंचाना चाहती है, वह सही से नहीं पहुंचा पा रही है. भरतपुर के नगर से विधायक वाजिब अली ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो बाडे़बंदी में चले जाएंगे. लेकिन वोट तो 10 तारीख को डालना है. वह कहीं से भी डाल देंगे. उसमें तो कोई दिक्कत नहीं. उधर, ईडी के नोटिस को लेकर वाजिब अली ने कहा कि उन्हें कोई नोटिस नहीं मिला है. उनका तो व्यापार ही ऑस्ट्रेलिया में है फिर भी अगर कोई एजेंसी मुझसे कोई बात पूछेगी तो मैं सम्मान के साथ उन्हें पूरी जानकारी दूंगा.

Previous article अमेरिका ने लगाया भारत पर अल्पसंख्यकों पर हमले का आरोप, भारत ने अमेरिकी रिपोर्ट को किया ख़ारिज
Next article अंतर्राष्ट्रीय दबाव के बीच साम्प्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने के आरोप में बीजेपी ने अपने दो नेताओं पर की कार्रवाई
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here