Sunday, February 25, 2024
होमदेशमनी लांड्रिंग केस: कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक गिरफ्तार, महाराष्ट्र सरकार बोली, नहीं...

मनी लांड्रिंग केस: कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक गिरफ्तार, महाराष्ट्र सरकार बोली, नहीं लेंगे मलिक से इस्तीफा

मुंबई: लंबी पूछताछ के बाद ईडी ने दाऊद इब्राहिम मनी लान्ड्रिंग मामले में महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तारी के बाद एनसीपी नेता मलिक को स्पेशल कोर्ट में पेश किया गया, जिसके बाद अदालत ने नवाब मलिक को तीन मार्च तक के लिए ईडी की हिरासत में भेज दिया है. हालांकि ईडी ने अदालत से मलिक की 14 दिनों की हिरासत मांगी थी जिसे अदालत ने नहीं माना. इस बीच मलिक की गिरफ्तारी के बाद बीजेपी ने उद्धव सरकार से मलिक को तुरंत इस्तीफा लेने की मांग रखी, जिसके बाद शिवसेना नेता संजय राऊत ने कहा है कि राज्‍य सरकार मलिक का मंत्री पद से इस्‍तीफा नहीं लेगी. हालांकि उनके इस्तीफे पर NCP प्रमुख शरद पवार, गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटिल, सीएम उद्धव ठाकरे की बैठक के बाद ही कोई फैसला लिया जाएगा. इस बीच बीजेपी ने इस्तीफे की मांग को लेकर महाराष्ट्र भर में गुरुवार को आंदोलन करने का एलान किया है तो वहीं शिवसेना के नेतृत्व वाली अघाड़ी सरकार ने भी नवाब मलिक की गिरफ्तारी के खिलाफ गुरुवार को ही प्रदर्शन का एलान किया है.
पेशी के दौरान नवाब मलिक ने कोर्ट में कहा कि प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारी सुबह मेरे घर आए और कुछ देर बाद मुझे ईडी कार्यालय ले गए. इसके बाद मुझे हिरासत में लिया और मेरा बयान दर्ज किया. उन्होंने मुझे कार्यालय में ही समन की कापी दी और उस पर दस्‍तखत करने के लिए कहा.
ईडी द्वारा मलिक की गिरफ्तारी के बाद मुंबई से लेकर दिल्ली तक सियासी हलचल बढ़ गई है. गिरफ्तारी के बाद बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार से फोन पर बात की है. इस दौरान ममता ने पवार के साथ एकजुटता दिखाते हुए एनसीपी नेता की गिरफ्तारी पर केंद्र के प्रति नाराजगी जताई. ममता ने पवार से कहा कि भाजपा नेतृत्व की मोदी सरकार के जरिए ईडी, सीबीआइ व अन्य केंद्रीय एजेंसियों का विपक्षी दलों के खिलाफ लगातार इस्तेमाल किया जा रहा है. उन्होंने इसके खिलाफ सभी विपक्षी दलों से एकजुट होकर लड़ाई लड़ने की जरूरत पर ज़ोर दिया.
अधिकारियों के मुताबिक, 62 साला मलिक को सुबह करीब आठ बजे पूछताछ के लिए दक्षिण मुंबई स्थित ईडी कार्यालय में लाया गया था, करीब छह घंटे चली पूछताछ के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. इसके बाद मलिक को मेडिकल चेकअप के लिए ले जाए जाने के पहले मलिक ने मीडिया के सामने मुस्कराकर मुट्ठी बांधी, हाथ हिलाया और वाहन के अंदर से ही कहा, ‘हम लड़ेंगे, जीतेंगे और सभी को एक्सपोज़ करेंगे.’
अधिकारियों का कहना है कि उनका बयान प्रिवेंशन आफ मनी लांड्रिंग एक्ट के तहत दर्ज किया गया है. उन्हें इसी के प्रविधानों के तहत गिरफ्तार भी किया गया है क्योंकि वह जवाब देने से बच रहे थे.
बता दें कि अंडरवर्ल्ड की गतिविधियों, संपत्ति की अवैध रूप से कथित खरीद-फरोख्त और हवाला लेनदेन के संबंध में ईडी ने 15 फरवरी को मुंबई में छापेमारी की थी और एक नया मामला दर्ज किया था जिसके बाद मलिक से पूछताछ की गई थी.
इस दौरान करीब 10 जगहों पर छापेमारी की गई थी जिसमें अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की दिवंगत बहन हसीना पार्कर, भाई इकबाल कासकर और छोटा शकील के रिश्तेदार सलीम कुरैशी उर्फ सलीम फ्रूट के परिसर शमिल हैं. कासकर पहले से जेल में है जिसे जांच एजेंसी ने पिछले हफ्ते ही गिरफ्तार किया था. ईडी ने पार्कर के बेटे से भी पूछताछ की थी.

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments