Friday, March 31, 2023
होमताज़ातरीनदिल्ली में गहलोत की राजनीति तो केरल में थरूर की पैतरेबाजी 

दिल्ली में गहलोत की राजनीति तो केरल में थरूर की पैतरेबाजी 

दिल्ली में गहलोत की राजनीति तो केरल में थरूर की पैतरेबाजी

खिलाड़ी हर समय सफल ही नहीं होता. कभी कभी मात भी खानी होती है. गहलोत के साथ अभी यही सब हो रहा है. गहलोत अपने को खिलाड़ी समझ रहे थे. लेकिन अब पार्टी हाई कमान की आँखों में वो पहले जैसे नहीं रहे. उनका वकार घट गया है. उनकी विश्वसनीयता अब पहले वाली नहीं रही. गहलोत और राजस्थान के पार्टी विधायकों के साथ आगे क्या होगा. यह तो वक्त ही बताएगा, क्योंकि राजस्थान की सियासत ने साफ़ कर दिया है कि उन्होंने आलाकमान को नजरअंदाज किया है, और गाँधी परिवार को कमतर माना है. और यह सब गहलोत के इशारे पर हुआ है. यह बात और है कि गहलोत ने इसे गलती मानकर माफ़ी भी मांगी है, लेकिन क्या अब वे गांधी परिवार के नजदीक हो पाएंगे ?

उधर पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरूर राष्ट्रीय ने अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने के लिए पूरी तैयारी कर ली है. उन्होंने यह भी दावा किया है कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए उनके पास पूरे देश के पार्टी कार्यकर्ताओं का समर्थन है. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद राहुल गांधी से भी भारत जोड़ो यात्रा के दौरान मिले. राहुल से मुलाकात के बाद शशि थरूर ने भारत जोड़ो यात्रा का एक वीडियो शेयर किया और बीजेपी-आरएसएस पर निशाना साधा.

भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होने के बाद शशि थरूर ने राहुल गांधी के समर्थन में बड़ी बात सोशल मीडिया पर लिख दी. उन्होंने वीडियो शेयर करने के साथ कैप्शन में लिखा, मैं गोडसे के दौर में गांधी के साथ हूं.

शशि थरूर ने कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए अपनी उम्मीदवारी के बारे में पूछे जाने पर पत्रकारों से कहा, जब मैं नामांकन पत्र दाखिल करूंगा तब आप देखिएगा मुझे कितना समर्थन मिला है. यदि मुझे अधिकांश राज्यों के पार्टी कार्यकर्ताओं का समर्थन मिलता है तो मैं चुनाव मैदान में रहूंगा. देश के अलग-अलग हिस्सों से अनेक लोगों ने मुझसे चुनाव लड़ने का अनुरोध किया है. थरूर ने कहा कि वह चुनाव लड़ने के इच्छुक हैं, लेकिन 30 सितंबर को नामांकन पत्र जमा करने की आखिरी तारीख के बाद ही सबकुछ स्पष्ट होगा.

कांग्रेस की ओर से बृहस्पतिवार को जारी अधिसूचना के मुताबिक चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया 24 सितंबर से 30 सितंबर तक चलेगी. नामांकन पत्रों की जांच की तिथि एक अक्टूबर है, जबकि नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि 8 अक्टूबर है. अगर जरूरत पड़ी तो मतदान 17 अक्टूबर को होगा. मतों की गिनती 19 अक्टूबर को होगी और उसी दिन परिणाम घोषित किया जाएगा. चुनाव में प्रदेश कांगेस कमेटी के 9000 से अधिक प्रतिनिधि मतदान करेंगे.

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments