Sunday, September 24, 2023
होमताज़ातरीनखालिस्तान के विरोध में दो समुदायों के बीच झड़प के बाद कर्फ्यू,...

खालिस्तान के विरोध में दो समुदायों के बीच झड़प के बाद कर्फ्यू, हिंदू संगठन ने आज बंद का किया ऐलान

पंजाब के पटियाला में खालिस्तान विरोधी मार्च के विरोध में दो गुटो के बीच आपसी झड़प के बाद स्थानीय प्रशासन ने तनाव को देखते हुए शहर में 11 घंटे का कर्फ्यू लगा दिया है. मार्च की अगुवाई कर रहे शिवसेना नेता हरीश सिंगला को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने कहा है कि मार्च निकलने की इजाज़त नहीं थी, फिर भी मार्च निकाला गया.

इस बीच शिवसेना हिंदुस्तान नाम के एक संगठन ने आज यानी 30 अप्रैल को पटियाला बंद का आह्वान किया है. पंजाब शिवसेना इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष हरीश सिंगला को इस घटना के बाद पार्टी से निष्कासित कर दिया है. ये जानकारी पंजाब इकाई के अध्यक्ष ने दी है, उन्होंने कहा है कि पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के निर्देश के बाद सिंगला को पार्टी गतिविधियों के खिलाफ काम करने के आरोप में पार्टी से बाहर कर दिया गया है.

इस दौरान मुख्यमंत्री भगवंत मान ने घटना को लेकर पुलिस महानिदेशक और आला अधिकारियों के साथ बैठक की. बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और कहा कि वह किसी को भी राज्य में अशांति भंग करने नहीं देंगे. उन्होंने कहा कि हम स्थिति पर बारीकी से नजर बनाए हुए हैं. उसके बाद मख्यमंत्री मान ने एक ट्वीट कर कहा कि घटना की जांच के आदेश दे दिए गए हैं, और अधिकारियों को हिदायत कर दी गई है कि वो किसी भी दोषी को ना छोड़ें.

बता दें कि शिवसेना कार्यकर्ताओं और खालीस्तानी समर्थकों के बीच यह झड़प शुक्रवार को उस समय हुई जब काली माता मंदिर के बाहर शिवसेना कहने वाले संगठन के सदस्यों ने खालिस्तान मुर्दाबाद मार्च शुरू किया था. झड़प के दौरान खुलेआम तलवारे लहराई गईं और एक दूसरे पर पत्थर फेंके गए. इस दौरान पुलिस ने हालात को कंट्रोल कर लेने का दावा किया है.

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments