Saturday, April 13, 2024
होमचुनावयूपी के लिए कांग्रेस ने किया युवा घोषणा पत्र जारी ,विपक्ष में...

यूपी के लिए कांग्रेस ने किया युवा घोषणा पत्र जारी ,विपक्ष में हलचल!

यूपी चुनाव में कांग्रेस के पक्ष में परिणाम चाहे जो भी आए  लेकिन जिस तरह युवाओं को टारगेट करके प्रियंका और राहुल गाँधी ने चुनावी घोषणा पत्र जारी किया है ,दूसरी दलों की परेशानी बढ़ा दी है। खासकर बीजेपी और सपा के सामने बेरोजगारी को लेकर अब तक की जो समझ और प्रयास है उसपर प्रियंका ने बढ़त बढ़ा ली है। भर्ती विधान के नाम से जारी घोषण पत्र में युवाओं के रोजगार से लेकर उसके मुकम्मिल विकास और भविष्य को लेकर जो तस्वीर प्रियंका और उसकी टीम यूपी के सामने रखा है ,निश्चित रूप से  लोगों और युवाओं को एक बार सोंचने को बाध्य करेगा।

    घोषणा पत्र जारी करते हुए राहुल गाँधी ने कहा कि रोजगार छोटे और मीडियम व्यवसाय से आते हैं। रोजगार बड़े-बड़े व्यवसाय से कम आता है। भाजपा की नीति छोटे व्यापारियों को खत्म करने की है। नोटबंदी, गलत जीएसटी  और कोरोना के समय सरकार द्वारा लिए गए गलत निर्णय के कारण 14 करोड़ युवाओं ने रोजगार खोया है। इसलिए जरुरी है कि सूबे के युवाओं को बड़े स्तर पर रोजगार मुहैया कराइ जाए। और ऐसा नहीं होता तो इसके परिणाम घातक होंगे।
   उधर प्रियंका गांधी से जब उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के मुख्यमंत्री उम्मीदवार के बारे में पूछा गया तो तो उन्होंने कहा कि क्या आपको कोई दूसरा चेहरा दिखाई देता है। जाहिर है प्रियंका ने अपरोक्ष रूप से खुद को सीएम उम्मीदवार के रूप में पेश किया है। प्रियंका से जब पूछा गया कि क्या चुनाव के बाद  किसी दूसरी पार्टी को समर्थन देंगी? इस सवाल के जवाब में प्रियंका ने कहा कि अगर ऐसी परिस्थिती आई तो हम जिस गठबंधन में शामिल होंगे उसमें हम चाहेंगे कि हमारे जो महिलाओं और युवाओं के लिए वादे हैं वो सरकार के एजेंडा में शामिल हो।

बता दें कि शुक्रवार 21 जनवरी को कांग्रेस नेता राहुल गांधी और यूपी प्रभारी व कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने दिल्ली में युवा घोषणापत्र जारी किया। पार्टी इसमें युवाओं के रोजगार, परीक्षा शुल्क व भर्तियों में पारदर्शिता जैसे मुद्दों पर अपना नजरिया पेश किया है।

प्रियंका ने कहा कि ”इसे भर्ती विधान इसलिए कहा गया है क्योंकि यूपी में सबसे बड़ी समस्या भर्ती की है। आज युवा दुखी हैं, त्रस्त हैं, क्वालिफाइड हैं लेकिन उन्हें रोजगार नहीं मिलता। हमारा ये प्रयास रहा है कि नौजवानों की हर समस्या इस भर्ती विधान में समाहित हो।युवाओं को इस भर्ती विधान में 20 लाख नौकरियां देने की बात कही गई है। शिक्षकों के 1.50 पद भी भरे जाएंगे। हमने देखा है कि भर्तियों में जो लेटलतीफी, पेपर लीक आदि होते हैं इसलिए इन समस्याओं पर फोकस किया गया है।”
इस विधान में भविष्य निर्माण के लिए यानी युवाओं को रोजगार कैसे शुरू करना है इसके लिए भी एक सेक्शन है।कुछ सालों से यूपी के विश्वविद्यालयों में चुनाव नहीं हो रहे उसे लेकर भी एक सेक्शन है। एक सेक्शन में युवाओं की भलाई के बारे में भी बात है। जिसमें उनके स्वास्थ्य से लेकर अन्य चीजें हैं। इस विधान में प्रदेश के सात करोड़ युवाओं को टारगेट किया गया है।
विश्वविद्यालयों, कॉलेजों, डॉक्टरों, पुलिस, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के पद बड़ी संख्या में खाली हैं जिन्हें भरा जाएगा। संस्कृत विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के पद पर भर्ती, उर्दू शिक्षकों की भर्ती भी की जाएगी।
इस भर्ती विधान में कहा गया है कि जहां 100 से ज्यादा एक ही इंडस्ट्री की फैक्टरी है उसे क्लस्टर बनाया जाएगा। भर्ती प्रक्रिया में जो युवाओं का भरोसा टूटा है, उसे दोबारा स्थापित किया जाएगा। भर्ती के लिए फॉर्म भरने में पैसा नहीं लगेगा, आने-जाने के लिए ट्रेन, बस आदि का पैसा नहीं लगेगा। जॉब कैलेंडर बनाया जाएगा जिसमें परीक्षा की तारीख से नियुक्ति की तारीख तक होगी, कड़ाई से पालन होगा। न हुआ तो जुर्माना लगेगा। आरक्षण का घोटाला और भर्ती घोटाला जैसे घोटालों पर लगाम लगेगी। शिक्षा के बजट को हमारी सरकार आने पर बढ़ाया जाएगा।
इस घोषणा पत्र में विश्वविद्यालय , कॉलेजों में फ्री वाई-फाई, लाइब्रेरी, मेस आदि की सुविधा को बढ़ाया जाएगा।सभी कॉलेज और विश्वविद्यालय में ईडब्ल्यूएस के लिए प्री और पोस्ट मेट्रिक स्कॉलशिप मिले इसकी भी व्यवस्था होगी। सिंगल विंडो भी खोला जाएगा।रोजगार के लिए नए अवसर निकाले जाएंगे।
घोषणा पत्र में कहा गया है कि नदी पर निर्भर समुदायों के लिए खास काम किया जाएगा।
रोजगार के लिए 1 लाख का ऋण 5 प्रतिशत ब्याज पर मिलेगा। यूपी में नशीले पदार्थों का सेवन बहुत बढ़ गया है, इसके समाधान के लिए एक सेंटर लखनऊ में होगा और इनके चार हब होंगे जो काउंसिलिंग आदि कर युवाओं को नशे से दूर करेंगे। हर साल यूथ फेस्टिवल कराना चाहते हैं जिससे लोकल कल्चरल तौर पर विकास होगा। क्रिकेट की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एकेडमी बनाना चाहते हैं। स्थानीय जगहों पर जो खेल ज्यादा लोकप्रिय हैं उन्हीं जोन में उनको बढ़ाकर ओलंपिक लेवल तक जाने के लिए वहीं एकेडमी बनेगी।
फिर राहुल गांधी ने कहा कि देश में एक बदलाव की जरूरत है जो उत्तर प्रदेश से ही शुरू हो सकती है। हिंदुस्तान को जो नरेंद्र मोदी ने विजन दिया था वो फेल हो गया है। हमारे युवा जो हमारी सबसे बड़ी शक्ति हैं उसे पीएम मोदी ने डेमोग्राफिक डिजास्टर में बदल दिया है। देश को जो विजन चाहिए वो कांग्रेस ही दे सकती है। ये देश का विजन नहीं हो सकता कि आज देश में 40 साल में सबसे ज्यादा बेरोजगारी है। अगर यूपी को एक नया विजन नहीं दिया गया तो देश को भी नहीं दिया जा सकता। इसलिए हमने यूपी के युवाओं के लिए एक नया विजन तैयार किया है।

 

अखिलेश अखिल
अखिलेश अखिल
पिछले 30 वर्षों से मिशनरी पत्रकारिता करने वाले अखिलेश अखिल की पहचान प्रिंट, टीवी और न्यू मीडिया में एक खास चेहरा के रूप में है। अखिल की पहचान देश के एक बेहतरीन रिपोर्टर के रूप में रही है। इनकी कई रपटों से देश की सियासत में हलचल हुई तो कई नेताओं के ये कोपभाजन भी बने। सामाजिक और आर्थिक, राजनीतिक खबरों पर इनकी बेबाक कलम हमेशा धर्मांध और ठग राजनीति को परेशान करती रही है। अखिल बासी खबरों में रुचि नहीं रखते और सेक्युलर राजनीति के साथ ही मिशनरी पत्रकारिता ही इनका शगल है। कंटेंट इज बॉस के अखिल हमेशा पैरोकार रहे है।
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments