Saturday, April 20, 2024
होमताज़ातरीनसारे रास्ते बंद हुए तभी भारत जोड़ो यात्रा की पड़ी जरूरत, राहुल...

सारे रास्ते बंद हुए तभी भारत जोड़ो यात्रा की पड़ी जरूरत, राहुल गांधी ने ललकारा, विपक्ष को भी संदेश

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में आयोजित महंगाई के खिलाफ हल्लाबोल रैली को संबोधित करते हुए कहा, “भारत जोड़ो यात्रा इसलिए शुरू की जा रही है क्योंकि हमारे सभी रास्ते बंद कर दिए गए हैं. इसके साथ ही राहुल ने दूसरे दलों को एक संदेश दे दिया है.”

उन्होंने कहा कि “आप चले जाइए आज किसी भी दुकादार, मज़दूर और किसान से पूछ लीजिए कि यूपीए और आज के समय में क्या अंतर है. यूपीए सरकार में 70 हज़ार करोड़ रुपये किसानों को दिए. नरेंद्र मोदी जी ने तीन काले क़ानून दिए. मज़दूरों के लिए यूपीए मनरेगा दिया. मोदी जी ने संसद में मनरेगा के लिए बोला ये बेकार है. आज उन्हें मनरेगा देना पड़ रहा है.”

 

राहुल ने कहा “हम ज़मीन अधिग्रहण क़ानून लाए और मोदी जी ने पहला काम उसे हटाने का काम किया. करोड़ों लोगों को हमने गरीबी से निकाला. मनरेगा, कर्ज़ा माफ़ी जैसे तरीक़ों से हमने लोगों को गरीबी से निकाला.” उन्होंने कहा “हिंदुस्तान में नरेंद्र मोदी जी नफ़रत फ़ैला रहे हैं. फायदा देश के दुश्मनों को होगा, चीन को होगा, पाकिस्तान को होगा. हिंदुस्तान में जितनी भी नफ़रत और डर फैलेगा, उतना ही हिंदुस्तान कमज़ोर किया. पिछले आठ सालों में नरेंद्र मोदी जी ने देश को ख़त्म करने का काम किया.”

 

बेरोजगारी और महंगाई पर वार करते हुए राहुल गांधी ने कहा, ” आपको आज जो बेरोजगारी दिख रही है, वो आने वाले समय में और बढ़ेगी. आपको एक तरफ बेरोजगारी की चोट लग रही है, और दूसरी तरफ महंगाई की. 2014 में एलपीजी सिलेंडर 410 रुपये का था. आज ये 1050 रुपये का है. पेट्रोल 70 रुपये प्रति लीटर पर था अब ये 100 रुपये प्रति लीटर के करीब है. डीज़ल 55 रुपये प्रति लीटर था लेकिन अब 90 रुपये प्रति लीटर है. सरसों का तेल 90 प्रति लीटर बिक रहा था, अब ये 200 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है. हिन्दुस्तान में आम नागरिक बहुत मुश्किल में हैं. लोग बहुत दर्द सह रहे हैं. जब विपक्ष इन बातों को संसद में उठाना चाहता है, तब मोदी सरकार विपक्ष को संसद में बोलने नहीं देती.

 

राहुल ने बेरोजगारी पर मोदी सरकार को घेरते हुए कहा कि, ”आज देश अगर चाहे भी तो अपने युवाओं को रोजगार नहीं दे पाएगा. क्योंकि देश को रोजगार ये दो उद्योगपति नहीं देते हैं. देश को रोजगार स्मॉल-मीडियम बिजनेस, किसान देते हैं और इन लोगों की रीढ़ की हड्डी नरेंद्र मोदी जी ने तोड़ दी है. 40 साल में सबसे अधिक बेराजगारी आज देश में है.”

 

कांग्रेस पार्टी देश को जोड़ती है. हम नफ़रत मिटाते हैं और जब नफ़रत और डर कम होता है तब हिंदुस्तान तेज़ी से आगे बढ़ता है. हमने ये सालों से करके दिखाया है.” उन्होंने कहा कि “मैं आपको कहना चाहता हूं कि कांग्रेस पार्टी का कार्यकर्ता ही देश को बचा सकता है. कांग्रेस की विचारधारा देश को प्रगति के पथ पर ला सकती है.”

 

राहुल ने कहा, “हमारी संस्थाएं मीडिया और न्यायालय पर दबाव है. हमारे पास एक ही रास्ता बचा है, सीधा जनता के बीच जाकर जनता को देश की सच्चाई बताना. जो जनता के दिल में है उसे गहराई से सुनना और समझना. इसलिए कांग्रेस पार्टी भारत जोड़ो यात्रा शुरू कर रही है.”

 

देश की हालत आपको दिख रही है, जब से बीजेपी की सरकार आई है, तब से देश में नफरत और क्रोध बढ़ता जा रहा है. मीडिया देशवासियों को डराती है, इससे नफरत पैदा होती है. आज हमारा देश जिन मुश्किलों से गुजर रहा है, इसका पूरा श्रेय बीजेपी की गैर-जिम्मेदार सरकार को जाता है. लेकिन हम अपनी जिम्मेदारियों से पीछे नहीं हटेंगे, आम जनता का साथ निभाएंगे, उनकी आवाज बुलंद करेंगे.

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments