Sunday, February 25, 2024
होमताज़ातरीनये तदबीर आप को हार्ट अटैक से बचा सकती है 

ये तदबीर आप को हार्ट अटैक से बचा सकती है 

हार्ट अटैक एक बेहद गंभीर बीमारी है जिससे रिकवर होने के बाद सेहत का ध्यान रखना जरूरी होता है। दिल की अच्छी सेहत के लिए हेल्दी डाइट का सेवन करना जरूरी है। अच्छी डाइट दिल और ब्लड सर्कुलेशन पर दबाव को कम करती है। हार्ट अटैक के बाद आपको उन फूड्स से दूरी बनानी जरूरी होती है जिनका सेवन आप हार्ट अटैक आने से पहले करते थे। दिल की अच्छी सेहत के लिए बैलेंस डाइट का सेवन करना जरूरी है।

फोर्टिस हॉस्पिटल, कल्याण की क्लिनिकल डाइटिशियन श्वेता महादिक कहती हैं लम्बी उम्र तक जीने के लिए और दिल को हेल्दी रखने के लिए डाइट का ध्यान रखना जरूरी है। दिल के रोगों और हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए डाइट बेहद असरदार साबित होती है, इसलिए सबसे पहले ये जाने कि कौन से फूड्स का सेवन दिल को हेल्दी रखता है। आइए जानते हैं कि हार्ट अटैक से रिकवर होने के बाद कैसी डाइट असरदार साबित होती है।

डाइट में फलों और सब्जियों को शामिल करें। फल और सब्जियां फाइबर से भरपूर होती है जो मेटाबॉलिज्म में सुधार करती हैं। डार्क रंग की सब्जियों का सेवन दिल की सेहत के लिए फायदेमंद साबित होता है। सब्जियों और फलों का अधिक सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल रहता है और दिल सेहतमंद रहता है।

डाइट में साबुत अनाज को शामिल करें। साबुत अनाज फाइबर से भरपूर होता है। हाई फाइबर फूड्स में आप फल, सब्जियों और फलियों को (बीन्स) शामिल कर सकते हैं।

डाइट में प्रोटीन का सेवन करें। स्किम्ड दूध और उसके उत्पादों, फलियां, दालें, साबुत अनाज, अंडे की सफेदी, मुर्गी और मछली का सेवन करें।

डाइट में ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर फूड्स का सेवन करें। खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए आप ऑयली फिश जैसे सार्डिन, मैकेरल, टूना, सैल्मन, हेरिंग, ट्राउट, बादाम, अखरोट और अलसी के बीज का सेवन करें। ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर ये फूड दिल को हेल्दी रखते हैं।

संतृप्त वसा और ट्रांस-फैट खाद्य पदार्थ जैसे बेकरी उत्पाद, पैकेज्ड फूड, रेड मीट, घी, मक्खन, डालडा और मार्जरीन से परहेज करें। संतृप्त वसा पशु उत्पादों जैसे मक्खन, क्रीम और चर्बी में पाया जाता है इनसे परहेज करें।

खाना पकाने का तरीका बदले। खाना फ्राई करके बनाने के बजाएं उबालकर, ग्रिल करके और भूनकर उसका सेवन करें।

खाने में नमक का सेवन कम करें। नमक बीपी को बढ़ा सकता है। खाने में अचार, पापड़, डिब्बाबंद फूड्स, सूखी मछली, नमकीन, रेडीमेड चटनी, टमाटर केचप से परहेज करें।

कार्बोनेटेड ड्रिंक और फूड्स का सेवन नहीं करें उनमें चीनी की मात्रा ज्यादा होती है जो दिल के लिए खतरा है।

शराब से परहेज करें।

सप्ताह में कम से कम पांच दिनों तक30-40 मिनट तक एक्सरसाइज करें। इनमें योग, तेज चलना, एरोबिक्स, तैराकी और साइकिल चलाना शामिल हो सकता हैं।

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments