Sunday, February 25, 2024
होमविदेशपैगम्बर मोहम्मद (PBUH) पर विवादित बयान को लेकर खाड़ी देशों के निशाने...

पैगम्बर मोहम्मद (PBUH) पर विवादित बयान को लेकर खाड़ी देशों के निशाने पर भारत

 

अंज़रुल बारी

 

बीजेपी की मुस्लिम विरोधी नीति की आलोचना तो कई अंतरराष्ट्रीय मंचों पर होती रही है लेकिन पैगम्बर मोहम्मद (PBUH) पर विवादित बयान आने के बाद खाड़ी के देश भी भारत से काफी नाराज हो गए हैं. खाड़ी देशों के साथ भारत के सम्बन्ध प्राचीन काल से ही बेहतर और मजबूत रहे हैं. लेकिन पैगम्बर मोहम्मद साहब (PBUH) की आलोचन के बाद अब भारत खाड़ी देश के निशाने पर आ गया है. माना जा रहा है कि भारत की मौजूदा सरकार ने मुस्लिम विरोधी अपनी नीति पर अंकुश नहीं लगाया तो इसके दूरगामी परिणाम हो सकते हैं. बता दें कि खाड़ी देशों में बड़ी संख्या में भारतीय लोग काम करते हैं और भारत की अर्थव्यवस्था में उसका बड़ा योगदान भी है.

पैगंबर मोहम्मद साहब (PBUH) को लेकर बीजेपी नेताओं के विवादित बयान को लेकर खाड़ी देशों का गुस्सा फूटा है. यह बात और है कि बीजेपी की राष्ट्रीय प्रवक्ता रहीं नूपुर शर्मा और दिल्ली मीडिया प्रभारी नवीन कुमार जिंदल को पार्टी से निष्कासित किया गया है. इन दोनों ने इस्लाम और पैगम्बर मोहम्मद साहब (PBUH) के खिलाफ विवादित बयान दिए थे. वहीं कतर, कुवैत, बहरीन, सऊदी अरब, ओमान और ईरान समेत कई देशों ने इन बयानों पर ऐतराज जताते हुए न सिर्फ कड़े शब्दों का इस्तेमाल किया है, बल्कि भारत के राजदूत को तलब कर सख्त संदेश भी दे दिया है.

कतर, ईरान और कुवैत ने भारत के राजदूत को तलब कर नोट दिया जिसमें कहा गया है कि बयान आपत्तिजनक और मुस्लिमों के लिए अपमानजनक है. वहीं कतर ने आपत्तिजनक ट्वीट को लेकर भी चिंता जताई है. बताते चलें कि नूपुर शर्मा ने ज्ञानवापी मस्जिद मामले में डिबेट के दौरान एक टीवी चैनल पर पैगंबर मोहम्मद साहब (PBUH) पर अपमानजनक टिप्पणी की थी. वहीं नवीन कुमार जिंदल ने ट्वीट किया था जिसपर बवाल हो गया.

भारतीय दूतावास की तरफ से कहा गया कि भारत की तरफ से साफ कर दिया गया है कि ये बयान भारत सरकार के विचारों को नहीं दर्शाते हैं. वहीं जब तेहरान ने भारतीय दूतावास में आपत्ति दर्ज कराई गई तो भारत ने कहा कि ऐसा बयान देने वाले लोग भारत सरकार में किसी आधिकारिक पद पर नहीं हैं और पार्टी से भी उन्हें निष्कासित कर दिया गया है.

गौरतलब है कि खाड़ी के इन देशों में बड़ी संख्या में भारतीय रहते हैं. इन देशों में जितने प्रवासी कामगार हैं उनमें से 30 फीसदी भारतीय हैं. इस वजह से भारत में विदेश से जो धन आता है उसमें खाड़ी देशों से आने वाला धन सबसे ज्यादा है. आंकड़े बताते हैं कि पश्चिमी एशिया मे लगभाग 80 लाख भारतीय रहते हैं.

खाड़ी देशों में भारत की तकनीक, निर्माण, फाइनेंस और होटल से जुड़ी कई कंपनियां हैं. खाड़े देशों के साथ भारत के व्यापारिक संबंध भी अच्छे हैं. ओमान में भारत का एक एयरबेस और तीन नौसेना बेस हैं. भारत के साथ खाड़ी देशों के संबंध अच्छे रहे हैं. देश से बाहर भारत पहला आईआईटी यूएई में बनाएगा. वहीं ओआईसी में खाड़ी देश हमेशा भारत का पक्ष रखते रहे हैं.

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments