Sunday, February 25, 2024
होमताज़ातरीनडी.वाई चंद्रचूड़ देश के 50 वें मुख्य न्यायाधीश नियुक्त, 9 नवम्बर को...

डी.वाई चंद्रचूड़ देश के 50 वें मुख्य न्यायाधीश नियुक्त, 9 नवम्बर को लेंगे शपथ 

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने 9 नवंबर, 2022 से न्यायमूर्ति डी. वाई चंद्रचूड़ को भारत का अगला मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया है. भारत के मुख्य न्यायाधीश उदय उमेश ललित के रिटायर होने के बाद, डीवाई चंद्रचूड़ भारत के 50 वें मुख्य न्यायाधीश बन जाएंगे. बता दें कि भारत के मुख्य न्यायाधीश उदय उमेश ललित ने न्यायमूर्ति डी. वाई चंद्रचूड़ को उनके उत्तराधिकारी के रूप में सुझाया था. उन्होंने 11 अक्टूबर की सुबह न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ को एक पत्र सौंपा था. पत्र में, उन्होंने उन्हें अगले सीजेआई के रूप में नामित किया.

केंद्रीय कानून और न्याय मंत्री किरेन रिजिजू ने भारत के अगले मुख्य न्यायाधीश के रूप में नियुक्त होने पर न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ को बधाई दी है. उन्होंने ट्वीट किया, “9 नवंबर को औपचारिक शपथ ग्रहण समारोह के लिए न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ को मेरी शुभकामनाएं.”

भारत के सबसे लंबे समय तक सेवा देने वाले मुख्य न्यायाधीश, वाईवी चंद्रचूड़ के बेटे, न्यायमूर्ति धनंजय यशवंत चंद्रचूड़ ने दिल्ली विश्वविद्यालय में एलएलबी पूरा किया. इसके बाद उन्होंने प्रतिष्ठित इनलाक्स छात्रवृत्ति प्राप्त करने के बाद हार्वर्ड विश्वविद्यालय में अध्ययन किया. हार्वर्ड में, उन्होंने कानून में परास्नातक और न्यायिक विज्ञान में डॉक्टरेट पूरा किया. जस्टिस चंद्रचूड़ ने बॉम्बे हाईकोर्ट के जज बनने से पहले सुप्रीम कोर्ट और गुजरात, कलकत्ता, इलाहाबाद, मध्य प्रदेश और दिल्ली के उच्च न्यायालयों में एक वकील के रूप में प्रैक्टिस किया है.

वह कंपनी लॉ बोर्ड, एकाधिकार और प्रतिबंधित व्यापार व्यवहार आयोग, विदेशी मुद्रा विनियमन अधिनियम बोर्ड और राष्ट्रीय और राज्य आयोगों के सामने पेश हुए. उन्हें 1998 में बॉम्बे हाईकोर्ट द्वारा वरिष्ठ अधिवक्ता के रूप में नामित किया गया था.

डीवाई चंद्रचूड़ ने 1998 से 2000 तक भारत के अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल के रूप में कार्य किया. एक वकील के रूप में, न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ के सबसे महत्वपूर्ण मामलों में संवैधानिक और प्रशासनिक कानून, एचआईवी पॉजिटिव, श्रमिकों के अधिकार, धार्मिक और भाषाई अल्पसंख्यक अधिकार और श्रम और औद्योगिक कानून शामिल हैं.

13 मई 2016 को जस्टिस चंद्रचूड़ को सुप्रीम कोर्ट में पदोन्नत किया गया था. इससे पहले, वह 31 अक्टूबर 2013 से इलाहाबाद उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश थे.

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments