Thursday, February 29, 2024
होमताज़ातरीनजहरीली शराब कांड : बिहार पहुंची एनएचआरसी टीम पर सरकार ने उठाये...

जहरीली शराब कांड : बिहार पहुंची एनएचआरसी टीम पर सरकार ने उठाये सवाल

बिहार जहरीली शराब कांड की जांच के लिए बिहार पहुंची राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की टीम के औचित्य पर राज्य सरकार के वाणिज्य कर मंत्री विजय कुमार चौधरी ने सवाल उठाया है. उन्होंने कहा कि एनचआरसी की टीम छपरा में क्या देखने और पता लगाने आयी है, यह सरकार की समझ से परे है. सारण जहरीली शराब से हुई मौत में मानवाधिकार की किस धारा का उल्लंघन हुआ है. इस बारे में भी एनचआरसी को बताना चाहिए. आयोग का मुख्य उद्देश्य मानवाधिकार का संरक्षण, संवर्धन और उल्लंघन रोकना है.

वाणिज्य कर मंत्री ने अपने विभागीय कार्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में सवालिया लहजे में कहा कि इससे पहले भी देश में शराब से मौतें हुई हैं. जहरीली शराब पीने से बिहार से अधिक मौतें बीजेपी शासित राज्य मध्यप्रदेश, हरियाण, कर्नाटक और गुजरात में हुई हैं. क्या वहां एनचआरसी की टीम जांच को गयी थी ? गुजरात के मोरबी में ब्रिज टूटने से 150 से अधिक मौतें हुई थी, क्या वहां की घटना का संज्ञान एनचआरसी ने लिया था? मौके पर मद्य निषेध, उत्पाद एवं निबंधन मंत्री सुनील कुमार भी मौजूद थे.
वाणिज्य कर मंत्री ने बीजेपी पर भी हमला बोला. उन्होंने कहा कि बिहार में शराब की आपूर्ति किन-किन राज्यों से होती है, यह किसी से छूपा हुआ नहीं है. बिहार पुलिस बीजेपी शासित राज्यों से बिहार में शराब तस्कर करने वाले लोगों और आपूर्तिकर्ता को पकड़ कर ला रही है. लेकिन, इस मुद्दे पर बीजेपी के नेता मौन हो जाते हैं. उन्हें शराब पीने से मौत हो सकती है, इस बारे में जनता को जागरूक करना चाहिए. लेकिन, बीजेपी गरीबों की मौत पर राजनीति कर रही है.
उधर, जदयू संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने छपरा में जहरीली शराब कांड में एनएचआरसी की टीम को जांच के लिए आने पर कहा है कि ऐसे विषयों पर केवल बिहार में टीम का आना राजनीति से प्रेरित लगता है. यदि ऐसा है तो यह गलत है. ऐसे मामलों में किसी भी संस्था या संगठन को समान रूप से देखना चाहिये और समीक्षा करनी चाहिये. ऐसी ऐसी ही घटना गुजरात में घटी और वहां यदि 150 या 200 लोगों की जान जाती है तो वहां भी टीम जानी चाहिये. उत्तर प्रदेश में यदि घटना हो तो टीम को वहां भी जाना चाहिये. उपेंद्र कुशवाहा ने यह बातें मंगलवार को जदयू प्रदेश मुख्यालय में संवाददाताओं से बातचीत में कहीं.

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments