Thursday, February 29, 2024
होमचुनावगुजरात चुनाव : मोरबी हदसा पर अशोक गहलोत का हमला, जाँच आयोग...

गुजरात चुनाव : मोरबी हदसा पर अशोक गहलोत का हमला, जाँच आयोग की मांग की 

राजस्थान के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत ने मोरबी पुल हादसे में 135 लोगों की मौत पर निष्पक्ष और आजाद जांच को लेकर जांच आयोग के गठन की मांग की है. गहलोत ने कहा है कि मोरबी हादसा गुजरात में बीजेपी के 27 साल के शासन के ‘कुशासन’ को उजागर कर दिया है. उन्होंने मांग की कि पुल ढहने की जांच के लिए एक सेवानिवृत्त या उच्च न्यायालय के मौजूदा न्यायाधीश के तहत एक जांच आयोग का गठन किया जाए. गहलोत ने कहा कि गुजरात में आम आदमी पार्टी लोगों को गुमराह कर रही है लेकिन सूबे के ग्रामीण इलाकों में कांग्रेस का प्रतिबद्ध वोट बैंक बरकरार है.

गहलोत ने कहा, “बीजेपी पिछले 27 वर्षों से गुजरात पर शासन कर रही है. लेकिन, मोरबी में पुल गिरने की इस घटना ने उनके कुशासन को उजागर कर दिया है. इस घटना से पहले, हूच त्रासदी (बोटाड में) के कारण हुई मौतों और कोरोना वायरस महामारी से निपटने के तौर तरीके ने बीजेपी को पूरी तरह से उजागर कर दिया था. “गहलोत ने कहा, “यह आश्चर्यजनक है कि राज्य सरकार द्वारा अभी तक ऐसी कोई जांच नहीं की गई है. नतीजतन, उच्च न्यायालय ने आज स्वत: संज्ञान लिया है. मैं मांग करता हूं कि एक मौजूदा या फिर सेवानिवृत्त एचसी न्यायाधीश के तहत एक जांच आयोग का गठन किया जाए ताकि पीड़ितों को न्याय मिले.”

गुजरात में अरविंद केजरीवाल और ‘आप’ के अभियान पर टिप्पणी करते हुए अशोक गहलोत ने कहा कि खासकर उम्मीदवारों की घोषणा के बाद ‘आप’ का दम घुट रहा है. उन्होंने कहा, “आप शासित दिल्ली की स्थिति प्रदूषण के कारण गंभीर है जबकि पंजाब में ‘आप’ सरकार पूरी तरह से विफल रही है. ‘आप’ अब गुजरात में लोगों को गुमराह कर रही है. लोगों को सतर्क रहना चाहिए.” गहलोत ने कहा, “गुजरात गुजरातियों (बीजेपी द्वारा नहीं) द्वारा बनाया गया है. राज्य आजादी से पहले भी उद्योगों के कारण मजबूत था. लेकिन अब, बीजेपी का कुशासन उजागर हो रहा है.”

इससे पहले, दिन में उच्च न्यायालय ने पुल ढहने की त्रासदी पर स्वत: संज्ञान लिया और राज्य सरकार और स्थानीय अधिकारियों को नोटिस जारी किया और 14 नवंबर तक मामले में स्थिति रिपोर्ट भी मांगी.

बीजेपी के नवीनतम चुनावी नारे “मैंने गुजरात बनाया है” पर, जिसका अर्थ है कि गुजरात के लोगों ने इस राज्य का निर्माण किया है, कांग्रेस नेता ने कहा कि राज्य आजादी से पहले भी मजबूत था. अपने गृह राज्य में चुनाव के लिए बीजेपी के अभियान की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को गुजराती में एक नया नारा दिया – “आ गुजरात, मैं बनाव्यु छे” (मैंने यह गुजरात बनाया है).

1 और 5 दिसंबर को दो चरणों में होने वाले चुनाव के लिए कांग्रेस की तैयारियों पर, गहलोत ने कहा, “कुछ लोगों द्वारा यह जानबूझकर फैलाया जा रहा है कि कांग्रेस तस्वीर में नहीं है. हम जमीन पर मजबूत पोजीशन में हैं और हमारा अभियान भी मजबूत हो रहा है. मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं कि गांवों में हमारा समर्थन आधार अभी भी बरकरार है.”

गुजरात में अपने चुनावी भाषणों के दौरान, अरविंद केजरीवाल अक्सर लोगों से कहते हैं कि कांग्रेस को वोट देने का कोई मतलब नहीं है. “क्योंकि पार्टी के नेता अंततः सत्तारूढ़ बीजेपी के लिए दोषपूर्ण हैं.” 2017 के गुजरात विधानसभा चुनावों में, कांग्रेस ने 77 सीटों पर जीत हासिल की, जबकि 182 सदस्यीय सदन में भाजपा ने 99 सीटें जीतीं.

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments