Home ताज़ातरीन सोनिया गांधी ने अशोक गहलोत को दी क्लीनचिट, पायलट बनेंगे राजस्थान के सीएम 

सोनिया गांधी ने अशोक गहलोत को दी क्लीनचिट, पायलट बनेंगे राजस्थान के सीएम 

0
सोनिया गांधी ने अशोक गहलोत को दी क्लीनचिट, पायलट बनेंगे राजस्थान के सीएम 

राजस्थान के सियासी संकट में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने अशोक गहलोत को क्लीनचिट दे दिया है. खबरों के मुताबिक अशोक गहलोत की सोनिया गांधी से फ़ोन पर बातचीत होने के बाद पार्टी हाई कमान ने यह फैसला किया है. अब पार्टी के अनुशासन को तोड़ने वाले विधायकों के खिलाफ करवाई की जा सकती है. जिन्होंने पार्टी की नीतियों के जाकर यह सब खेल किया था. आला कमान से क्लीनचिट मिलने के बाद अब गहलोत पार्टी अध्यक्ष पद के लिए नामांकन भी भरेंगे और राजस्थान में सचिन पायलट की ताजपोशी भी होगी. माकन ने राजस्थान संकट से जुडी तमाम रिपोर्ट भी सोनिया गांधी को सौंप दी है.

बता दें कि रविवार की शाम को 82 विधायकों के इस्तीफे के बाद पैदा हुए राजनीतिक संकट की वजह से पर्यवेक्षकों के साथ विधायकों की प्रस्तावित बैठक भी नहीं हो सकी और राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी अजय माकन और मल्लिकार्जुन खड़गे को बैरंग दिल्ली वापस लौटना पड़ा था. इस ताजा घटनाक्रम में यह बात उभरकर सामने आ गई कि राजस्थान में सीएम को बदलना कांग्रेस के लिए आसान नहीं है. इसका कारण यह है कि राजनीतिक आकांक्षाएं, मजबूत दावेदार और सत्ता का हस्तांतरण कांग्रेस की राह में रोड़े अटका रहे हैं.

बता दें कि रविवार को राजस्थान के निवर्तमान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को हटाकर सचिन पायलट के ताजपोशी की तैयारी की जा रही थी, क्योंकि अशोक गहलोत को कांग्रेस के अध्यक्ष पद का उम्मीदवारा मान लिया गया था. सचिन पायलट राजस्थान के मुख्यमंत्री के तौर पर पार्टी आलाकमान के पसंदीदा नेता बताए जा रहे हैं. इस बात की भनक लगते ही अशोक गहलोत ने शक्ति प्रदर्शन करते हुए पार्टी के खुर्राट नेताओं की चाल पर पानी फेर दिया था.

Previous article भागवत ने उमेर इलियासी से मस्जिद में की मुलाक़ात
Next article केंद्र का पीएफआई और उसके सहयोगी संगठनों पर कड़ा एक्शन, 5 साल के लिए बैन, बताया गैरकानूनी संस्था
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here