Saturday, March 25, 2023
होमताज़ातरीनपाकिस्तान: कराची पुलिस मुख्यालय पर हमला, मारे गए सभी आतंकी, 4 पुलिस...

पाकिस्तान: कराची पुलिस मुख्यालय पर हमला, मारे गए सभी आतंकी, 4 पुलिस और रेंजर्स कर्मियों की भी मौत

कराची पुलिस कार्यालय (केपीओ) पर आतंकवादी हमले के बाद, पुलिस और रेंजर्स की जवाबी कार्रवाई के दौरान सभी आतंकवादी मार दिए गए हैं. एक आतंकवादी इमारत की चौथी मंजिल पर ढेर किया गया, जबकि दो छत पर मार गिराए गए हैं. आतंकियों द्वारा किए गए हमले में 4 पुलिस और रेंजर्स को भी अपनी जान गंवानी पड़ी है.

पाकिस्तान के गृह मंत्री राणा सनाउल्लाह ने आईजी सिंध के हवाले से बताया है कि पुलिस मुख्यालय में छह से सात हमलावर घुसे हैं. एक स्थानीय टीवी चैनल से बात करते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार सिंध की हुकूमत के संपर्क में है और हर तरह की सहायता देने को तैयार है.

पाकिस्तान के विदेश मंत्री और पीपुल्स पार्टी के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी ने कराची के फैसल रोड स्थित पुलिस मुख्यालय पर आतंकवादियों द्वारा किए गए हमले की कड़ी निंदा की है.

अपने एक बयान में विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो ने कहा कि सिंध पुलिस ने पहले भी आतंकवाद को कुचला है. उन्होंने कहा कि उन्हें यकीन है कि वह आतंकवाद को फिर से खत्म कर देंगे. इस तरह के कायरतापूर्ण हमले हमारे हौसले को कम नहीं कर सकते हैं.

पाकिस्तान सेना की दो एसएसजी टीमों के नेतृत्व में सिंध रेंजर्स के जवानों ने भी आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन क्लीन में हिस्सा लिया. आतंकी हमले में 2 पुलिस और 1 रेंजर जवान समेत 4 लोग भी मारे गए थे, हमले में केपीओ का एक सफाईकर्मी भी शहीद हो गया है.

पुलिस अधिकारियों ने कहा कि कराची पुलिस कार्यालय में कमांडो द्वारा आतंकवादियों के खिलाफ एक अभियान चलाया गया था. इस दौरान पुलिस कार्यालय में एक और जोरदार विस्फोट हुआ, जिससे इमारत का एक हिस्सा गिर गया और खिड़कियां भी टूट गईं.

सिंध सरकार के प्रवक्ता मुर्तजा वहाब के मुताबिक, हमले में 2 पुलिसकर्मियों और एक रेंजर्स कर्मी सहित 4 लोग शहीद हो गए, जबकि 18 घायलों को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है.

सूत्रों का कहना है कि हमला शाम 7 बजकर 10 मिनट पर किया गया. जिसके बाद मुख्यालय की लाइटें और दरवाजे बंद कर दिए गए. हमलावर दो वाहनों में सवार हो कर कराची पुलिस कार्यालय पहुंचे थे, बम निरोधक दस्ते के कर्मचारियों द्वारा दोनों वाहनों की जांच की गई, एक वाहन इमारत के पीछे, दूसरा सामने खड़ा पाया गया.

 

सदर पुलिस लाइन परिसर में खड़ी कार के चारों दरवाजे खुले मिले. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि हमलावर छत पर पहुंच गए थे और पोजिशन ले ली थी. पुलिस अधिकारी ने न्यूज़ एजेंसियों से बात करते हुए बताया कि आतंकवादी पुलिस की वर्दी में केपीओ में घुसे थे.

कराची के पुलिस प्रमुख ने केपीओ पर हमले की पुष्टि की है. एडिशनल आईजी कराची का कहना है कि मेरे ऑफिस पर हमला हुआ है, पुलिस और कानून लागू करने वाली एजेंसियों के कमांडो बिल्डिंग में दाखिल हो चुके हैं.

पाक रेंजर्स के प्रवक्ता का कहना है कि रेंजर्स ने इलाके को घेर लिया है. रेंजर्स ने पुलिस के साथ मिलकर आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन शुरू किया. पुलिस अधिकारियों का कहना है कि ऑपरेशन के दौरान केपीओ की लाइट बंद कर दी गई थीं. पुलिस के जवानों ने कराची में पुलिस कार्यालय (केपीओ) को चारों तरफ से घेर लिया है.

सिंध प्रांत के मुख्यमंत्री सैयद मुराद अली शाह ने व्यक्तिगत रूप से कराची पुलिस कार्यालय पर हमला करने वाले आतंकवादियों के खिलाफ अभियान की निगरानी की.

सीएम के प्रवक्ता के अनुसार मुख्यमंत्री ने सभी एजेंसियों और ऑपरेशन में भाग लेने वालों की बहादुरी की सराहना की. उन्होंने कहा कि तीन आतंकवादी थे और तीनों भाड़ में गए.

उन्होंने कहा कि हमारे जवानों और अधिकारियों ने बहुत साहस और बहादुरी का परिचय दिया है. अब कराची स्थित पुलिस कार्यालय को खाली करा लिया गया है. मुख्यमंत्री ने ऑपरेशन में शहीद हुए जवानों के लिए गहरा दुख व्यक्त किया.

उन्होंने कहा कि ऑपरेशन में सभी घायलों का बेहतरीन इलाज किया जाएगा. हम शहीदों के परिवारों को कभी अकेला नहीं छोड़ेंगे. मुझे खुशी है कि देश आतंकवादियों के खिलाफ एकजुट है.

आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई के दौरान शाह फैसल रोड को अवारी होटल से लेकर नर्सरी तक दोनों तरफ से रोक दिया गया था.

बता दें कि कराची स्थित पुलिस मुख्यालय की इमारत पर हमले की जिम्मेदारी तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) ने ली है. बीते दिनों पेशावर की एक मस्जिद पर हुए हमले में कम से कम 100 लोगों की मौत हुई थी. इस हमले को भी टीटीपी के आतंकवादियों ने अंजाम दिया था.

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments