Thursday, March 30, 2023
होमताज़ातरीनएम एफ हुसैन पेंटिंग मामला : बीजेपी और कांग्रेस आमने - सामने

एम एफ हुसैन पेंटिंग मामला : बीजेपी और कांग्रेस आमने – सामने

अखिलेश अखिल

सच क्या है यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा लेकिन यस बैंक के अधिकारी रहे राणा कपूर के बयान के बाद कांग्रेस और बीजेपी आमने सामने है. राजनीति का यह खेल कहाँ तक जाएगा, कहना मुश्किल है, लेकिन फिलहाल तो एम एफ हुसैन की पेंटिंग से जुड़ा विवाद बहुत कुछ कहता नजर आ रहा है.
प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी द्वारा मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में दाखिल चार्जशीट के मुताबिक यस बैंक के सह संस्थापक राणा कपूर ने केंद्रीय एजेंसी को बताया कि उन्हें कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा से एम एफ हुसैन की पेंटिंग खरीदने के लिए ‘विवश’ किया गया और तस्वीर से प्राप्त राशि का इस्तेमाल गांधी परिवार ने सोनिया गांधी का न्यूयॉर्क में इलाज कराने के लिए किया था.
बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता आरपी सिंह ने कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी द्वारा लिखित एक लेटर शेयर किया, जो कथित तौर पर पुष्टि करता है कि राणा कपूर ने एमएफ हुसैन की पेंटिंग 2 करोड़ रुपये में खरीदी थी. आरपी सिंह ने प्रियंका गांधी द्वारा साइन किया हुआ एक लेटर ट्विटर पर शेयर किया, जिसमें एमएफ हुसैन द्वारा पेंट किया हुआ राजीव गांधी का पोर्ट्रेट खरीदने के लिए राणा कपूर को धन्यवाद दिया गया था.
इससे पहले यस बैंक के सह-संस्थापक राणा कपूर के इस आरोप पर रविवार को कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी आमने-सामने आ गए कि उन्हें कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा की ओर से मकबूल फिदा हुसैन की एक पेंटिंग खरीदने के लिए दबाव डलवाया गया था. कांग्रेस ने इसे ‘राजनीतिक प्रतिशोध’ बताया, वहीं बीजेपी ने गांधी परिवार को ‘जबरन वसूली करने’ वाला कहा.
कपूर ने प्रवर्तन निदेशालय को बताया था कि उन्हें प्रियंका गांधी से एम एफ हुसैन की एक पेंटिंग खरीदने को ‘‘विवश’’ किया गया था और इस बिक्री से प्राप्त धन का इस्तेमाल गांधी परिवार ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के न्यूयॉर्क में उपचार के लिए किया. ईडी द्वारा मुंबई की एक विशेष अदालत में दायर आरोपपत्र में यह बात कही गई है.

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments