Monday, December 11, 2023
होमताज़ातरीनअगर इमरान खान हुए गिरफ्तार तो हालत बिगड़ सकते हैं: पाकिस्तान के...

अगर इमरान खान हुए गिरफ्तार तो हालत बिगड़ सकते हैं: पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने सरकार को चेताया

पाकिस्तान के राष्ट्रपति डॉ. आरिफ अल्वी ने शाहबाज सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर इमरान खान को गिरफ्तार किया जाता है तो जनता की कड़ी प्रतिक्रिया होगी.

पाकिस्तान के राष्ट्रपति अल्वी ने वरिष्ठ पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि इमरान खान की गिरफ्तारी के बाद स्थिति और खराब होगी, ऐसा हरगिज नहीं होना चाहिए क्योंकि जनता की कड़ी प्रतिक्रिया होगी. उन्होंने कहा कि पार्टी ने पीटीआई नेता फवाद चौधरी की गिरफ्तारी के मुद्दे पर मुझसे बात नहीं की, उन्हें जिस तरह से हथकड़ी लगाई गई, उसके लिए उन्हें शर्म आनी चाहिए.

उन्होंने कहा कि सरकार ने डेढ़ महीने में बातचीत में कोई प्रगति नहीं की है. और इस समय किसी भी स्तर पर कोई बातचीत नहीं हो रही है. इमरान खान को बातचीत से गुरेज नहीं है. इसके लिए मैं सरकार को जिम्मेदार मानता हूं.

उन्होंने कहा कि मेरा पस्टेब्लिशमेंट से कोई संपर्क नहीं है. मैंने सोचा था कि लोग बातचीत करने बैठेंगे. सेना ने कहा है कि वह राजनीति में दखल नहीं देना चाहती. इस वक्त देश को लोगों के साथ बैठकर बात करने की जरूरत है, इस कमी को खुद राजनेताओं को पूरा करना होगा.

राष्ट्रपति अल्वी ने कहा कि पहले नहीं तो चुनाव पर ही चर्चा करेंगे. फवाद चौधरी और अन्य नेताओं के बयान सामने हैं कि बातचीत होनी चाहिए. कुछ लोग संविधान में देरी की गुंजाइश देख रहे हैं. यह मेरे लिए चिंता की बात है. लेकिन जनता और राजनेताओं पर पूरा भरोसा है. मुझे नहीं लगता कि शाहबाज शरीफ को नेशनल असेंबली में विश्वास मत हासिल नहीं होगा.

उन्होंने कहा कि वरिष्ठ मंत्री इसहाक डार से बातचीत हुई थी, लेकिन उन्होंने प्रधानमंत्री से बात नहीं की. चुनाव आयोग को जिम्मेदारी से फैसले लेने चाहिए. पाकिस्तान में माइनस वन फॉर्मूला कभी कामयाब नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि इंशाअल्लाह पाकिस्तान डिफॉल्ट नहीं करेगा.

Anzarul Bari
Anzarul Bari
पिछले 23 सालों से डेडीकेटेड पत्रकार अंज़रुल बारी की पहचान प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया में एक खास चेहरे के तौर पर रही है. अंज़रुल बारी को देश के एक बेहतरीन और सुलझे एंकर, प्रोड्यूसर और रिपोर्टर के तौर पर जाना जाता है. इन्हें लंबे समय तक संसदीय कार्रवाइयों की रिपोर्टिंग का लंबा अनुभव है. कई भाषाओं के माहिर अंज़रुल बारी टीवी पत्रकारिता से पहले ऑल इंडिया रेडियो, अलग अलग अखबारों और मैग्ज़ीन से जुड़े रहे हैं. इन्हें अपने 23 साला पत्रकारिता के दौर में विदेशी न्यूज़ एजेंसियों के लिए भी काम करने का अच्छा अनुभव है. देश के पहले प्राइवेट न्यूज़ चैनल जैन टीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर शो 'मुसलमान कल आज और कल' को इन्होंने बुलंदियों तक पहुंचाया, टीवी पत्रकारिता के दौर में इन्होंने देश की डिप्राइव्ड समाज को आगे लाने के लिए 'किसान की आवाज़', वॉइस ऑफ क्रिश्चियनिटी' और 'दलित आवाज़', जैसे चर्चित शोज़ को प्रोड्यूस कराया है. ईटीवी पर प्रसारित होने वाले मशहूर राजनीतिक शो 'सेंट्रल हॉल' के भी प्रोड्यूस रह चुके अंज़रुल बारी की कई स्टोरीज़ ने अपनी अलग छाप छोड़ी है. राजनीतिक हल्के में अच्छी पकड़ रखने वाले अंज़र सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय खबरों पर अच्छी पकड़ रखते हैं साथ ही अपने बेबाक कलम और जबान से सदा बहस का मौज़ू रहे है. डी.डी उर्दू चैनल के शुरू होने के बाद फिल्मी हस्तियों के इंटरव्यूज़ पर आधारित स्पेशल शो 'फिल्म की ज़बान उर्दू की तरह' से उन्होंने खूब नाम कमाया. सामाजिक हल्के में अपनी एक अलग पहचान रखने वाले अंज़रुल बारी 'इंडो मिडिल ईस्ट कल्चरल फ़ोरम' नामी मशहूर संस्था के संस्थापक महासचिव भी हैं.
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments